Friday, 16 December 2011

"भारत का आकाश लाएगा बदलाव की बरखा !!!

                                                        चमकता आकाश.... 





भारत प्रगति की ओर बढ़ रहा है इस बात को नकारा नहीं जा सकता…  लेकिन विकासशीलता के इस चक्र से जल्द ही बाहर निकलकर हमें विकसित भारत बन दुनियां के नक़्शे पर छाना है.… जो कि बिना तकनीकी विकास के संभव नहीं… और उसकी ही एक झलक हमें आकाश टेबलेट में दिखती है.… मार्केट में आने से पहले हुई बुकिंग ने मुल्क़ में ऐसा धमाका किया है कि, लगा हर तरफ बदलाव की लहर आने को बेकरार है… और जिसे पूरा युवा वर्ग भुनाने को उत्सुक है.…


बदलाव शब्द का प्रयोग करने पर शायद बहुत लोगो को आश्चर्य होगा की मै ऐसा क्यूँ कह रहा हूँ? क्या सही मायने में कुछ बदलेगा? जी हाँ यकीन मानिये अगर आकाश हर जगह आसानी से उपलब्ध हो गया तो इसके ख़रीदार  बहुत है, और सबसे बड़ी बात कि इसकी कीमत कम है.…पहले लोग पेज़र का इस्तेमाल किया करते थे, पर मोबाईल से जो क्रांति आई उसे भुला नहीं सकते, उसी प्रकार "ग्लोबल लाइजेशन" के इस दौर में पूरी दुनियां "ग्लोबल विल्लेज" के रूप में तब्दील हो गयी है.…  जिसके तार इन्टरनेट से जुड़े है पर उस तार को पकड़ने का साधन है कम्प्यूटर तो जरा सोचिये यह आकाश सिर्फ छात्रों को नहीं बल्कि पुरे भारत के लिए कितना उपयोगी होगा, क्या आप सोच रहे हैं कि इसका उपयोग कैसे किया जाएगा ? तो ज़रा सोचिए आपको मोबाईल चलाना किसने सिखाया था????


अब तो विदेशों से भी इसकी मांगे आने लगी है और आना लाज़मी भी है सस्ती और अच्छी चीज़ किसे पसंद नहीं आती,और जब समय मंदी का हो बात ही क्या? सरकार ने कुछ तो जनहित में लाया जिसका फ़ायदा हम सब उठा सके तो इंतज़ार किस बात का अभी से बुकिंग करा लीजिए शायद आप क़तार में औरों से आगे हो जाएं…


जब घर - घर में गूगल आएगा
अमेरिका भारत में नज़र आएगा
बिन गए दूकान शॉपिंग हो जाएगा 
पप्पू - पप्पी को चैट से मनाएगा  
जब घर - घर में गूगल आएगा 
जब घर - घर में गूगल आएगा 

                                                                                                                सत्या "नादाँ"

No comments:

Post a Comment